Shukracharya - The Lord of Venus

Updated: Apr 23


शुक्र ग्रह, जिसे शुक्रा के नाम से भी जाना जाता है, नवग्रह देवताओं में से एक है। शुक्राचार्य ऋषि भृगु के पुत्र और सभी असुरों (दानवों) के मुख्य शिक्षक थे। वे भगवान शिव के भक्त थे और उनसे संजीवनी विद्या (मृत्यु से एक को वापस लाने) का ज्ञान प्राप्त किया। उनका विवाह जयंती (इंद्र की पुत्री) से हुआ था। वह किसी के जीवन में सुंदरता, शारीरिक बनावट, कामुकता, धन और विलासिता के पहलू को नियंत्रित करता है। शुक्रवार का दिन उनकी पूजा के लिए समर्पित है।

शुक्राचार्य का जन्म नाम उषाण था। उनका जन्म भृगु और उनकी पत्नी ख्याति से हुआ था। भृगु ने उषा को ऋषि अंगिरस से वेद सीखने के लिए भेजा। ऋषि अंगिरस ने उन्हें अपने छात्र के रूप में स्वीकार किया लेकिन उनके पुत्र बृहस्पति के प्रति आंशिक था और उषाणों पर अधिक ध्यान नहीं दिया। उषाण उत्तेजित हो गए और उन्होंने ऋषि गौतम से अध्ययन करने का निर्णय लिया। गौतम ने उसे पढ़ाया और वह खुद काफी शक्तिशाली संत बन गया। जब उशनदास को पता चला कि बृहस्पति को देवों के लिए मुख्य शिक्षक घोषित किया गया है तो वह उग्र हो गया। उन्होंने देवताओं से बदला लेने के लिए राक्षसों के लिए मुख्य शिक्षक बनने का फैसला किया। बृहस्पति के मार्गदर्शन में देवता राक्षसों को आसानी से हरा सकते थे। देवताओं को परास्त करने के लिए शुक्राचार्य को कुछ अधिक शक्तिशाली की आवश्यकता थी। वह मृत्संजीवनी मंत्र सीखना चाहते थे जो मृतकों को वापस ला सके। उषाण भगवान शिव का ध्यान करने लगे। उनकी तपस्या गंभीर थी। उसने खुद को एक पेड़ के पास उल्टा लटका दिया और भोजन और पानी छोड़ दिया। स्वर्ग के राजा इंद्र ने असुर हो गए और अपनी बेटी जयंती को अपनी तपस्या तोड़ने के लिए भेजा। मयंती ने पूरी कोशिश की लेकिन सफल नहीं हो पाई। उषाण तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव उनके सामने प्रकट हुए और उन्हें मृत्संजीवनी का वरदान दिया। उन्होंने हालांकि उशनदाओं से इस मंत्र का दुरुपयोग नहीं करने को कहा।

इस बीच, जब उशनदा शिव का ध्यान कर रहे थे, देवताओं ने हमला करने और राक्षसों को मारने का फैसला किया। उनके शिक्षक उशनदास के बिना दानव कमजोर थे। राक्षसों ने उशनदास माता ख्याति से मदद लेने का फैसला किया और उनसे देवताओं से रक्षा करने का अनुरोध किया। ख्याति ने सहमति जताई। जब देवताओं को पता चला कि राक्षस ख्याति के घर पर छिपे हुए हैं तो वे उन्हें पकड़ने के लिए वहां पहुंचे। हालाँकि, ख्याति शक्तिशाली थी और अपार आध्यात्मिक शक्तियों के साथ, उसने सभी देवताओं को सम्मोहित कर लिया। इंद्र किसी तरह भागने में सफल रहा। वह भगवान विष्णु के पास गया और उसे हस्तक्षेप करने के लिए कहा। विष्णु स्वयं वहां गए और ख्याति को राक्षसों से मुक्त करने का निर्देश दिया। उसने उससे कहा कि वह राक्षसों की मदद करके धर्म के खिलाफ जा रहा है। ख्याति सहमत नहीं थी और उसने कहा कि जब तक वह जीवित है, वह अपने मेहमानों पर हमला नहीं करने देगी। इसलिए विष्णु को अपने सुदर्शन चक्र से उसे मारना पड़ा। देवताओं ने राक्षसों को फिर से पकड़ लिया। ऋषि ब्रिगू भी वहां मौजूद नहीं थे जब यह सब हुआ। जब भृगु को पता चला कि उनकी पत्नी को विष्णु ने मार दिया है, तो उन्होंने विष्णु को शाप दिया कि जब भी वे अवतार के रूप में पृथ्वी पर होंगे, तब उन्हें अपने प्रिय से अलग होने के दर्द से गुजरना होगा। हम रामायण की कथा में उनके शाप को प्रकट होते हुए देख सकते हैं।


जब उशनदा को अपनी माँ की मृत्यु का पता चला तो वह उग्र हो गया। अब, वह जो चाहता था, वह देवताओं और विष्णु से बदला लेना था। उसने अपने दानव कबीले के साथ देवताओं पर हमला करना शुरू कर दिया। मित्सुंजीवनी की शक्ति से, वह अब राक्षसों को आसानी से जीवन में वापस ला सकता था। दैत्य बार-बार जीतने लगे। इसने तीनों लोकों में कहर मचा दिया।

असहाय देवता शिव की मदद के लिए गए। जब शिव को पता चला कि उषाण अपनी शक्तियों का दुरुपयोग कर रहे हैं तो उन्होंने उसे सबक सिखाने का फैसला किया। शिव ने उषान को निगल लिया। उशनदा अब शिव के पेट के अंदर था। वह वहां हजार साल तक रहा। शिव के पेट के अंदर, उशनदा ने सभी 7 दुनिया और पूरे ब्रह्मांड को देखा। बाहर आने में असमर्थ वह स्वयं शिव के पेट के अंदर शिव का ध्यान करने लगा।

वर्षों की तपस्या के बाद, वह शिश्न या लिंग के मार्ग से शिव के पेट से बाहर आने में कामयाब रहे। चूंकि वह शिव के शुक्रा के रूप में बाहर आया या शुक्राणु शिव ने उसे अपना पुत्र घोषित किया और उसका नाम शुक्राचार्य रखा गया।

The planet of Venus, also known as Shukra is one among the Navagraha deities. Shukracharya was the son of sage Bhrigu and the chief teacher to all Asuras (Demons). He was a devotee of Lord Shiva and gained the knowledge of Sanjivani Vidya (to bring one back from death) from him. He was married to Jayanti (daughter of Indra). He governs the aspect of beauty, physical appearance, sexuality, wealth, and luxury in one’s life. The day of Friday is dedicated to his worship.

Shukracharya's birth name was Ushanas. He was born to sage Bhrigu and his wife Khyati. Bhrigu sent Ushanas to sage Angiras to learn Vedas from him. Sage Angiras accepted him as his student however was partial towards his son Brihaspati and did not pay much attention to Ushanas. Ushanas got agitated and decided to study from sage Gautama instead. Gautama taught him and he became quite a powerful sage himself. When Ushanas came to know that Brihaspati was declared as the chief teacher for Devas he became furious. He decided to become the chief teacher for demons as he sought revenge from the Gods. The Gods could easily defeat the demons under the guidance of Brihaspati. Shukracharya needed something more powerful to defeat the Gods. He wanted to learn the Mritsanjivani mantra which could bring the dead back to life. Ushanas started meditating upon Lord Shiva. His penance was severe. He hung himself upside down to a tree and gave up on food and water. Indra the king of Heaven got insecure and sent his daughter Jayanti to break his penance. Jayanti tried her best but was unable to succeed. Pleased with Ushanas penance Lord Shiva appeared before him and granted the boon of Mritsanjivani to him. He however asked Ushanas not to misuse this mantra.

Meanwhile, when Ushanas was meditating upon Shiva, the Gods decided to attack and kill the demons. Demons were vulnerable without their teacher Ushanas. The demons decided to take help from Ushanas mother Khyati and requested her to protect them from the Gods. Khyati agreed. When the Gods got to know that the demons were hiding at Khyati's house they rushed there to capture them. However, Khyati was powerful and with immense spiritual powers, she hypnotized all the Gods. Indra somehow managed to escape. He rushed to Lord Vishnu and asked him to intervene. Vishnu went there himself and instructed Khyati to let the demons free. He told her that she was going against Dharma by helping the demons. Khyati did not agree and said that she would not let the Gods attack her guests until she is alive. Hence Vishnu had to kill her with his Sudarshan chakra. The Gods captured the demons again. Sage Brighu was also not present there when all this happened. When Bhrigu came to know that his wife was killed by Vishnu, he cursed Vishnu that even he would have to go through the pain of separation from his beloved whenever he was on Earth as an avatar. We can see his curse manifesting in the tale of Ramayana.


When Ushanas came to know of his mother's death he went furious. Now, all that he wanted was to take revenge from Gods and Vishnu. He with his demon clan started attacking the Gods. With the power of Mritsanjivani, he could now bring back demons to life easily. The demons started winning again and again. This created havoc in all three worlds.

The helpless Gods went to Shiva for help. When Shiva came to know that Ushanas was misusing his powers he decided to teach him a lesson. Shiva swallowed Ushanas. Ushanas was now inside Shiva's stomach. He stayed there for thousand years. Inside Shiva's stomach, Ushanas saw all the 7 worlds and the entire cosmos. Unable to come out he started meditating upon Shiva inside Shiva's stomach itself.

After years of penance, he managed to come out from Shiva's stomach through the passage of penile or Linga. Since he came out as Shiva's Shukra or sperm Shiva declared him his son and he was named Shukracharya.


Art Credit: Unknown Follow us on

www.facebook.com/mysticadii

www.pinterest.com/mysticadii www.instagram.com/mysticadii

Download Our App onelink.to/mysticadii




93 views0 comments