top of page

Ramanuja | रामानुजाचार्य - Bhakti and Vishishtadvaita Philosophy

Updated: Sep 9, 2023



Early Life:

Ramanuja was born around the year 1017 in a small, peaceful village called Shriperumbudur in Tamil Nadu, India. Imagine a place where the air is filled with the scent of blooming flowers and the sounds of temple bells ringing. That's where Ramanuja spent his childhood.

His family was deeply religious. They weren't just regular folks who went to the temple on special occasions; they were the kind of family who made spirituality a big part of everyday life. His parents would tell him stories from ancient scriptures and myths, full of gods, heroes, and magical creatures. It was like bedtime stories, but with a spiritual twist!

Ramanuja's first teacher was a man named Yadavaprakasha. Picture a serious, wise man who could quote ancient texts as easily as we might quote lines from a popular movie. Yadavaprakasha taught Ramanuja about a philosophy called Advaita Vedanta. This philosophy talked about how everything in the universe is connected and is basically one single thing. But young Ramanuja started asking questions that even his wise teacher couldn't easily answer.

Imagine being a student who loves the subject but starts to feel that the teacher's version of the story is missing some big pieces. That's how Ramanuja felt. He respected his teacher but couldn't shake off the feeling that something was not quite right. His heart told him there must be room for a loving, personal God in this grand philosophy, not just an abstract, impersonal force.

So, while still a young man, Ramanuja decided that he needed to find his own answers. It's like he set out on a spiritual treasure hunt, and that hunt would take him to places and ideas he'd never imagined.


Work

As Ramanuja grew older, his spiritual quest became more serious. Imagine leaving behind everything you know, like your home and family, to find a deeper truth. That's what he did. He became like a spiritual detective, hunting for clues about the divine. Spiritual Detective:

  • Ramanuja was like a spiritual detective, searching for deeper understanding. Imagine him as someone who can't rest until he figures out the mysteries of God and life.

Game-Changing Vision:

  • One day, he had a vision where he saw Lord Vishnu and Lakshmi. This was a turning point for him. It's as if the sky opened up to tell him what his mission in life was: to help people connect with God in a more personal way.

Daily Rituals:

  • After his vision, Ramanuja created new daily worship practices. Think of this as a daily "spiritual routine," almost like a morning exercise for your soul.


New Philosophy - Vishishtadvaita:

  • Ramanuja didn't stop at rituals; he had big ideas too. He came up with a philosophy called Vishishtadvaita, which basically means that everything is connected but also unique. Imagine a garden where all flowers are nourished by the same soil but are different in their own ways.


Influencing the Masses:

  • Ramanuja's teachings weren't just for scholars or priests. Regular people started listening to him and incorporating his ideas into their lives. He turned complex thoughts into simple ideas that everyone could use.


Challenging Old Beliefs:

  • He was bold enough to say that some older ideas were incomplete or missing the point. In simple terms, he stood up and said, "There's more to know about God and life, and I want to share it with you."


Philosophy

Shripada Ramanujacharya believed that we are all unique but connected to God, who is loving and personal. He said that the best way to understand God and find ultimate happiness is through devotion—loving and praising God with all your heart. This idea is a key part of his bigger philosophy called "Vishishtadvaita," which also explains how the world, individual souls, and God are connected.


Vishishtadvaita - A Guiding Light:

  • Ramanujacharya's seminal contribution to spiritual philosophy is known as Vishishtadvaita, or "qualified non-dualism." This is a philosophy that shapes how we understand ourselves, the universe, and the Divine.


Unity in Diversity:

  • Within the vast expanse of Vishishtadvaita, every soul is connected to the Ultimate Reality, or God, yet retains its individual essence. It's like a forest where each tree is separate but part of the greater whole, sharing the same nourishing soil and light.


Bhakti - The Heart of the Matter:

  • Ramanujacharya placed great emphasis on Bhakti, or devotion to God, as the path to ultimate liberation. This wasn't just a philosophical point for him; it was a call to a more heartfelt, loving relationship with the Divine.


A Personal God:

  • A cornerstone of his philosophy was the idea of a personal God. For Ramanujacharya, God was not an abstract, impersonal idea but a loving, caring Lord who engages intimately with each soul.


Refinement of Tradition:

  • Ramanujacharya was respectful of the wisdom of ancient scriptures, but he brought forth new insights that challenged some traditional views. He presented a God who is both immanent and transcendent, involved in the world yet beyond it.


Inclusion of All:

  • One of the most remarkable aspects of his philosophy was its inclusive nature. Whether you were a scholar or a farmer, his teachings offered something for everyone, advocating that every soul has the potential for divine realization.

Respect for All Paths to the Divine:

  • While Ramanujacharya was a devoted Vaishnavite, believing in Lord Vishnu as the Supreme Being, his philosophy welcomed different interpretations of Divinity, offering a vision of spiritual unity in diversity.

Soteriology

In simple terms, Ramanujacharya's view on salvation, or Soteriology, teaches that the ultimate goal isn't just to escape the cycle of birth and death but to experience everlasting joy through a close relationship with God. He stressed that just knowing about God isn't enough; true liberation comes from deep devotion and worship. Through this loving devotion, God's grace helps us achieve eternal happiness and spiritual freedom.


Joy in Knowing:

  • Rāmānuja believed that true happiness comes from knowing ourselves and knowing Brahman (God). He felt the joy of being close to God is the ultimate goal, even more important than breaking free from the cycle of birth and death.

Liberation through Devotion:

  • According to Rāmānuja, just knowing about God isn't enough to reach liberation. The way to really get there is through bhakti yoga, which means being totally devoted to God—praising, worshiping, and constantly thinking about God's perfection.

Grace as a Guide:

  • Rāmānuja taught that God’s grace is what helps you finally achieve this lasting joy and liberation. It’s like God holding out a hand to help you climb up to a place of eternal happiness.


Criticism of Sankara

Ramanujacharya had some key disagreements with Shankara, another important philosopher. While Shankara said God is a formless, undifferentiated consciousness, Ramanujacharya argued that God is full of divine qualities and is more personal He also criticized Shankara's idea that ignorance and illusion are the reasons we're stuck in the cycle of birth and death, saying instead that it's our past actions, or karma, that are to blame. Consciousness and God:

  • Rāmānuja disagreed with Shankara on the nature of Brahman. He said God has many aspects and is not just a 'blank slate' of undifferentiated consciousness.

Ideas about Brahman:

  • He also said Shankara was wrong to think of God as being without qualities (Nirguna). Rāmānuja argued God is full of divine qualities.

Problems with Ignorance and Illusion:

  • Lastly, Rāmānuja found several big issues with Shankara's ideas about Ignorance (Avidya) and Illusion (Maya), stating that they had several inconsistencies.

Rāmānuja’s views offer a rich tapestry of thought, offering an alternative route to understanding divinity and achieving spiritual liberation. His ideas remain integral to the fabric of Hindu philosophy and continue to inspire people on their spiritual journeys.

Conclusion

Shripada Ramanujacharya's legacy as a philosopher and theologian is enduring and far-reaching. His contributions to the Vishishtadvaita philosophy and the promotion of devotion as a path to spiritual realization have left an indelible mark on Hinduism and continue to guide countless individuals on their spiritual journeys. Ramanuja's teachings remind us of the power of unity, devotion, and philosophical exploration in the quest for deeper spiritual understanding


For a deeper understanding of topics related to spirituality and philosophy, follow us on our various platforms.


 

In Hindi

 
प्रारंभिक जीवन

रामानुज का जन्म वर्ष 1017 के आसपास भारत के तमिलनाडु में श्रीपेरंबुदूर नामक एक छोटे, शांतिपूर्ण गाँव में हुआ था। एक ऐसी जगह की कल्पना करें जहां हवा खिलते फूलों की खुशबू और मंदिर की घंटियों के बजने की आवाज से भर जाती है। यहीं पर रामानुज ने अपना बचपन बिताया।


उनका परिवार अत्यंत धार्मिक था। वे केवल नियमित लोग नहीं थे जो विशेष अवसरों पर मंदिर जाते थे; वे ऐसे परिवार थे जिन्होंने आध्यात्मिकता को रोजमर्रा की जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा बनाया। उनके माता-पिता उन्हें प्राचीन धर्मग्रंथों और मिथकों की कहानियाँ सुनाते थे, जो देवताओं, नायकों और जादुई प्राणियों से भरी हुई थीं। यह सोने के समय की कहानियों की तरह थी, लेकिन एक आध्यात्मिक मोड़ के साथ!


रामानुज के पहले शिक्षक यादवप्रकाश नामक व्यक्ति थे। एक गंभीर, बुद्धिमान व्यक्ति की कल्पना करें जो प्राचीन ग्रंथों को उतनी ही आसानी से उद्धृत कर सकता है जितनी आसानी से हम किसी लोकप्रिय फिल्म की पंक्तियों को उद्धृत कर सकते हैं। यादवप्रकाश ने रामानुज को अद्वैत वेदांत नामक दर्शन के बारे में सिखाया। यह दर्शन इस बारे में बात करता है कि ब्रह्मांड में सब कुछ कैसे जुड़ा हुआ है और मूल रूप से एक ही चीज है। लेकिन युवा रामानुज ने ऐसे प्रश्न पूछना शुरू कर दिया जिनका उत्तर उनके बुद्धिमान शिक्षक भी आसानी से नहीं दे सकते थे।


एक छात्र होने की कल्पना करें जो विषय से प्यार करता है लेकिन उसे लगने लगता है कि कहानी के शिक्षक संस्करण में कुछ बड़े हिस्से गायब हैं। रामानुज को ऐसा ही लगा। वह अपने शिक्षक का सम्मान करता था लेकिन इस भावना से छुटकारा नहीं पा सका कि कुछ ठीक नहीं था। उनके दिल ने उनसे कहा कि इस भव्य दर्शन में एक प्रेमपूर्ण, व्यक्तिगत ईश्वर के लिए जगह होनी चाहिए, न कि केवल एक अमूर्त, अवैयक्तिक शक्ति के लिए।


इसलिए, एक युवा व्यक्ति के रूप में, रामानुज ने निर्णय लिया कि उन्हें अपने उत्तर स्वयं खोजने होंगे। यह ऐसा है जैसे वह आध्यात्मिक खजाने की खोज पर निकला हो, और वह खोज उसे उन स्थानों और विचारों तक ले जाएगी जिनकी उसने कभी कल्पना भी नहीं की थी।

काम

जैसे-जैसे रामानुज बड़े होते गए, उनकी आध्यात्मिक खोज और अधिक गंभीर होती गई। एक गहरे सत्य को खोजने के लिए अपने घर और परिवार जैसी हर चीज़ को पीछे छोड़ने की कल्पना करें जिसे आप जानते हैं। उसने यही किया. वह एक आध्यात्मिक जासूस की तरह बन गया, जो परमात्मा के बारे में सुराग ढूंढ रहा था।


आध्यात्मिक जासूस:

रामानुज एक आध्यात्मिक जासूस की तरह थे, जो गहरी समझ की खोज कर रहे थे। उसकी कल्पना एक ऐसे व्यक्ति के रूप में करें जो तब तक आराम नहीं कर सकता जब तक वह ईश्वर और जीवन के रहस्यों को समझ नहीं लेता।

गेम-चेंजिंग विज़न:

एक दिन, उसे एक स्वप्न आया जिसमें उसने भगवान विष्णु और लक्ष्मी को देखा। यह उनके लिए एक निर्णायक मोड़ था. ऐसा लगता है जैसे आकाश उसे यह बताने के लिए खुल गया कि जीवन में उसका मिशन क्या था: लोगों को अधिक व्यक्तिगत तरीके से ईश्वर से जुड़ने में मदद करना।

दैनिक अनुष्ठान:

उनके दर्शन के बाद रामानुज ने नई दैनिक पूजा पद्धतियों का निर्माण किया। इसे एक दैनिक "आध्यात्मिक दिनचर्या" के रूप में सोचें, लगभग अपनी आत्मा के लिए सुबह के व्यायाम की तरह।


नवीन दर्शन - विशिष्टाद्वैत:

रामानुज अनुष्ठान तक ही नहीं रुके; उनके विचार भी बड़े थे। वह विशिष्टाद्वैत नामक एक दर्शन लेकर आए, जिसका मूल अर्थ है कि सब कुछ जुड़ा हुआ है लेकिन अद्वितीय भी है। एक ऐसे बगीचे की कल्पना करें जहां सभी फूल एक ही मिट्टी से पोषित होते हैं लेकिन अपने-अपने तरीके से भिन्न होते हैं।


जनता को प्रभावित करना:

रामानुज की शिक्षाएँ केवल विद्वानों या पुजारियों के लिए नहीं थीं। नियमित लोग उनकी बात सुनने लगे और उनके विचारों को अपने जीवन में शामिल करने लगे। उन्होंने जटिल विचारों को सरल विचारों में बदल दिया जिनका उपयोग हर कोई कर सकता था।


पुरानी मान्यताओं को चुनौती:

वह यह कहने के लिए काफी साहसी थे कि कुछ पुराने विचार अधूरे थे या मुद्दा गायब था। सरल शब्दों में, वह खड़े हुए और कहा, "भगवान और जीवन के बारे में जानने के लिए और भी बहुत कुछ है, और मैं इसे आपके साथ साझा करना चाहता हूं।"


दर्शन

श्रीपद रामानुजाचार्य का मानना ​​था कि हम सभी अद्वितीय हैं लेकिन भगवान से जुड़े हुए हैं, जो प्रेमपूर्ण और व्यक्तिगत हैं। उन्होंने कहा कि ईश्वर को समझने और परम खुशी पाने का सबसे अच्छा तरीका भक्ति है - पूरे दिल से ईश्वर से प्रेम करना और उसकी स्तुति करना। यह विचार उनके "विशिष्टाद्वैत" नामक बड़े दर्शन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो यह भी बताता है कि दुनिया, व्यक्तिगत आत्माएं और भगवान कैसे जुड़े हुए हैं।


विशिष्टाद्वैत - मार्गदर्शक प्रकाश:

आध्यात्मिक दर्शन में रामानुजाचार्य के मौलिक योगदान को विशिष्टाद्वैत, या "योग्य गैर-द्वैतवाद" के रूप में जाना जाता है। यह एक दर्शन है जो यह तय करता है कि हम खुद को, ब्रह्मांड और ईश्वर को कैसे समझते हैं।


अनेकता में एकता:

विशिष्टाद्वैत के विशाल विस्तार के भीतर, प्रत्येक आत्मा परम वास्तविकता या ईश्वर से जुड़ी हुई है, फिर भी अपना व्यक्तिगत सार बरकरार रखती है। यह एक जंगल की तरह है जहां प्रत्येक पेड़ अलग है, लेकिन एक ही पोषक मिट्टी और प्रकाश साझा करते हुए, समग्र का हिस्सा है।


भक्ति - विषय का हृदय:

रामानुजाचार्य ने परम मुक्ति के मार्ग के रूप में भक्ति, या ईश्वर के प्रति समर्पण पर बहुत जोर दिया। यह उनके लिए सिर्फ एक दार्शनिक बात नहीं थी; यह ईश्वर के साथ अधिक हार्दिक, प्रेमपूर्ण रिश्ते का आह्वान था।


एक व्यक्तिगत भगवान:

उनके दर्शन की आधारशिला एक व्यक्तिगत ईश्वर का विचार था। रामानुजाचार्य के लिए, भगवान एक अमूर्त, अवैयक्तिक विचार नहीं बल्कि एक प्रेमपूर्ण, देखभाल करने वाला भगवान था जो प्रत्येक आत्मा के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़ा हुआ है।


परंपरा का परिष्कार:

रामानुजाचार्य प्राचीन धर्मग्रंथों के ज्ञान का सम्मान करते थे, लेकिन उन्होंने नई अंतर्दृष्टियाँ सामने लायीं जिन्होंने कुछ पारंपरिक विचारों को चुनौती दी। उन्होंने एक ऐसे ईश्वर को प्रस्तुत किया जो अन्तर्निहित और पारलौकिक दोनों है, जो संसार में शामिल है फिर भी उससे परे है।


सभी का समावेश:

उनके दर्शन का सबसे उल्लेखनीय पहलू इसकी समावेशी प्रकृति थी। चाहे आप विद्वान हों या किसान, उनकी शिक्षाएं हर किसी के लिए कुछ न कुछ पेश करती थीं, इस बात की वकालत करती थीं कि हर आत्मा में दिव्य प्राप्ति की क्षमता है।


ईश्वर की ओर जाने वाले सभी मार्गों का सम्मान:

जबकि रामानुजाचार्य एक कट्टर वैष्णव थे, जो भगवान विष्णु को सर्वोच्च मानते थे, उनके दर्शन ने देवत्व की विभिन्न व्याख्याओं का स्वागत किया, जो विविधता में आध्यात्मिक एकता की दृष्टि पेश करता है।


मुक्तिशास्त्र

सरल शब्दों में, मोक्ष या सोटेरियोलॉजी पर रामानुजाचार्य का दृष्टिकोण सिखाता है कि अंतिम लक्ष्य सिर्फ जन्म और मृत्यु के चक्र से बचना नहीं है, बल्कि भगवान के साथ घनिष्ठ संबंध के माध्यम से शाश्वत आनंद का अनुभव करना है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि केवल ईश्वर के बारे में जानना ही पर्याप्त नहीं है; सच्ची मुक्ति गहरी भक्ति और पूजा से मिलती है। इस प्रेमपूर्ण भक्ति के माध्यम से, भगवान की कृपा हमें शाश्वत खुशी और आध्यात्मिक स्वतंत्रता प्राप्त करने में मदद करती है।


जानने में खुशी:

रामानुज का मानना ​​था कि सच्चा सुख स्वयं को जानने और ब्रह्म (ईश्वर) को जानने से मिलता है। उन्होंने महसूस किया कि भगवान के करीब होने का आनंद ही अंतिम लक्ष्य है, जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त होने से भी अधिक महत्वपूर्ण।


भक्ति से मुक्ति:

रामानुज के अनुसार, मुक्ति पाने के लिए केवल ईश्वर के बारे में जानना ही पर्याप्त नहीं है। वास्तव में वहां पहुंचने का रास्ता भक्ति योग के माध्यम से है, जिसका अर्थ है भगवान के प्रति पूरी तरह से समर्पित होना - स्तुति करना, पूजा करना और लगातार भगवान की पूर्णता के बारे में सोचना।


एक मार्गदर्शक के रूप में अनुग्रह:

रामानुज ने सिखाया कि भगवान की कृपा ही आपको अंततः इस स्थायी आनंद और मुक्ति को प्राप्त करने में मदद करती है। यह ऐसा है जैसे ईश्वर आपको शाश्वत सुख के स्थान पर चढ़ने में मदद करने के लिए हाथ बढ़ा रहा है।


शंकर की आलोचना

रामानुजाचार्य की एक अन्य महत्वपूर्ण दार्शनिक शंकर के साथ कुछ प्रमुख असहमतियाँ थीं। जबकि शंकर ने कहा कि ईश्वर एक निराकार, अविभाज्य चेतना है, रामानुजाचार्य ने तर्क दिया कि ईश्वर दिव्य गुणों से भरपूर है और अधिक व्यक्तिगत है


उन्होंने शंकर के इस विचार की भी आलोचना की कि अज्ञान और भ्रम ही वे कारण हैं जिनके कारण हम जन्म और मृत्यु के चक्र में फंसे हुए हैं, उन्होंने कहा कि इसके लिए हमारे पिछले कर्म या कर्म दोषी हैं।


चेतना और ईश्वर:

रामानुज ब्राह्मण की प्रकृति पर शंकर से असहमत थे। उन्होंने कहा कि ईश्वर के कई पहलू हैं और वह केवल अविभाज्य चेतना की एक 'कोरी स्लेट' नहीं है।


ब्रह्म के बारे में विचार:

उन्होंने यह भी कहा कि शंकर का ईश्वर को निर्गुण समझना गलत था। रामानुज ने तर्क दिया कि ईश्वर दिव्य गुणों से परिपूर्ण है।


अज्ञान और भ्रम से समस्याएँ:

अंत में, रामानुज ने अज्ञान (अविद्या) और भ्रम (माया) के बारे में शंकर के विचारों के साथ कई प्रमुख मुद्दे पाए, जिसमें कहा गया कि उनमें कई विसंगतियाँ थीं।


रामानुज के विचार विचारों की एक समृद्ध टेपेस्ट्री प्रस्तुत करते हैं, जो देवत्व को समझने और आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त करने के लिए एक वैकल्पिक मार्ग प्रदान करते हैं। उनके विचार हिंदू दर्शन के अभिन्न अंग बने हुए हैं और लोगों को उनकी आध्यात्मिक यात्राओं के लिए प्रेरित करते रहते हैं।


निष्कर्ष

एक दार्शनिक और धर्मशास्त्री के रूप में श्रीपाद रामानुजाचार्य की विरासत स्थायी और दूरगामी है। विशिष्टाद्वैत दर्शन और आध्यात्मिक अनुभूति के मार्ग के रूप में भक्ति को बढ़ावा देने में उनके योगदान ने हिंदू धर्म पर एक अमिट छाप छोड़ी है और अनगिनत व्यक्तियों को उनकी आध्यात्मिक यात्राओं पर मार्गदर्शन करना जारी रखा है। रामानुज की शिक्षाएँ हमें गहरी आध्यात्मिक समझ की तलाश में एकता, भक्ति और दार्शनिक अन्वेषण की शक्ति की याद दिलाती हैं


आध्यात्मिकता और दर्शन से संबंधित विषयों की गहरी समझ के लिए, हमारे विभिन्न प्लेटफार्मों पर हमें फ़ॉलो करें!

 

Follow Us:

Download Our App:

Visit Our Website:

193 views0 comments

תגובות


bottom of page