top of page

Hanuman Chalisa

Updated: Jun 9, 2023


Hindi: श्री हनुमान चालीसा दो दोहों में विभाजित है, प्रत्येक में 20 श्लोक होते हैं। पहले दोहे में, तुलसीदास श्री हनुमान की भक्ति और उनके राम के प्रेमी और संदेशवाहक के रूप में उनके कार्य की प्रशंसा करते हैं। उन्होंने हनुमान को शक्ति, ज्ञान और भक्ति के प्रतीक के रूप में वर्णित किया है, और उनकी कृपा की मांग की है ताकि हम भी इन गुणों को प्राप्त कर सकें। उन्होंने हनुमान के रामायण में सीता को ढूंढने, रावण नामक राक्षस राजा के खिलाफ युद्ध में उनकी बहादुरी जैसे कार्यों का भी उल्लेख किया है।

दूसरे दोहे में, तुलसीदास ने हनुमान चालीसा का पाठ करने के लाभों का वर्णन किया है। इसमें शामिल हैं अनाधिकृतता और नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा, सफलता और समृद्धि की कृपा, और मोक्ष की प्राप्ति। उन्होंने बताया है कि हनुमान चालीसा का पाठ बीमारियों को ठीक कर सकता है, इच्छाओं को पूरा कर सकता है, और यह भगवान राम की पूजा के समान है।

कविता एक आशीर्वाद और सुरक्षा की मांग कर समाप्त होती है, और विश्वास है कि भक्ति और श्रद्धा के साथ हनुमान चालीसा का पाठ ज्ञान, शक्ति और भक्ति की प्राप्ति और अंततः मोक्ष की ओर ले जाएगा।

श्री हनुमान चालीसा हिन्दू धर्म में सबसे प्रभावशाली मंत्रों में से एक मानी जाती है और भारत के साथ ही दुनिया के कई हिस्सों में रोजाना लाखों लोगों द्वारा पठित की जाती है। इसे अक्सर एक दैनिक प्रार्थना के रूप में या धार्मिक आयोजनों का हिस्सा के रूप में पठाया जाता है, खासकर हनुमान जयंती, भगवान हनुमान के जन्मदिन के दिन। यह मंत्र संकटों को दूर करने, नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा पाने, ज्ञान और बुद्धि प्राप्त करने, शक्ति और साहस के लिए आशीर्वाद प्राप्त करने, और मोक्ष की प्राप्ति के लिए पठाया जाता है।

English:

The Hanuman Chalisa is a sacred hymn divided into two Dohas, each consisting of 20 verses. In the first Doha, Tulsidas praises Hanuman's unwavering devotion to Lord Rama and his significant role as both a devotee and a messenger. Tulsidas depicts Hanuman as the epitome of strength, wisdom, and devotion, seeking his blessings to attain these virtues. The first Doha also highlights Hanuman's heroic feats during the epic Ramayana, including his pivotal role in locating Sita, Rama's wife, and his contributions to the war against the demon king, Ravana.

Moving to the second Doha, Tulsidas enumerates the manifold benefits of reciting the Hanuman Chalisa. These include protection from evil influences and negative energies, blessings of success and prosperity, and the attainment of salvation. Tulsidas also asserts that reciting the Chalisa can heal ailments, fulfill desires, and equates it to worshipping Lord Rama himself.

The poem concludes by seeking Hanuman's blessings and protection, emphasizing the belief that reciting the Hanuman Chalisa with devotion and faith leads to the attainment of knowledge, strength, and unwavering devotion, ultimately guiding one towards salvation.

The Hanuman Chalisa holds immense significance in Hinduism and is recited by millions of devotees worldwide. It serves as a daily prayer and is an integral part of religious ceremonies, especially during Hanuman Jayanti, the birthday of Lord Hanuman. People recite this hymn to overcome difficulties, seek protection from negative energies, gain wisdom and knowledge, and be blessed with courage and strength on their spiritual journey towards salvation.


Art Credit - Unknown



Download Our App

40 views0 comments

Comments


bottom of page